आज यानी 1 जुलाई 2022 से आपकी जेब से जुड़े कई बदलाव होने वाले हैं. ये महत्वपूर्ण बदलाव हैं, जिनकी हर नागरिक को जानकारी होनी चाहिए.

ये वित्तीय बदलाव टैक्सेशन, शेयर बाजार और सैलरी से संबंधित हैं. जहां केंद्र सरकार इस बात को लेकर निश्चित है कि क्रिप्टोकरेंसी  ट्रांजैक्शन से बने कैपिटल गैन पर टैक्स लगाया जाएगा.

पैन-आधार लिंक कराना होगा महंगा पैन को आधार से लिंक किए बिना उसे एक्टिव रखने की डेडलाइन को 31 मार्च 2023 तक बढ़ा दिया गया था.

आज यानी 1 जुलाई 2022 या उसके बाद आधार और पैन को लिंक करते हैं, तो 1,000 रुपये देने की जरूरत पड़ेगी. यानी 30 जून तक अगर आप अपने आधार और पैन को लिंक करा देते हैं, तो कम जुर्माना लगेगा.

क्रिप्टो ट्रांजैक्शन पर टीडीएस वर्चुअल डिजिटल एसेट (VDA) पर कटने वाले टीडीएस को लेकर इनकम टैक्स विभाग ने एक डिटेल गाइडलाइन जारी की है.

1 जुलाई से वीडीए या क्रिप्टोकरेंसी के पेमेंट पर 1 परसेंट टीडीएस कटेगा. हालांकि, यह टैक्स तभी कटेगा जब एक साल में क्रिप्टोकरेंसी के लिए 10,000 रुपये से अधिक का पेमेंट किया जाएगा.

आपका ट्रेडिंग अकाउंट हो सकता है बंद अगर आपने अपना डीमैट-ट्रेडिंग खाते का केवाईसी नहीं कराया था, तो आपके पास यह करने के लिए 30 जून तक का समय ही था. 

नए लेबर कोड नौकरीपेशा लोगों की सैलरी, छुट्टी, पीएफ आदि के नियमों को लेकर काफी बदलाव होने जा रहा है. 

सरकार की ओर से नया वेज कोड बना दिया गया है और बताया जा रहा है कि ये आज यानी 1 जुलाई से लागू होंगे. हालांकि, अभी तक इसे लेकर कोई आधिकारिक ऐलान नहीं हुआ है.

सरकार ने यह तय कर दिया है कि अब सैलरी स्ट्रक्चर में बेसिक सैलरी का हिस्सा 50 फीसदी होना आवश्यक है, इस वजह से लोगों की इन हैंड सैलरी कम हो जाएगी.