UP Bhulekh: यूपी भूलेख, खसरा, खतौनी, UP Online Land Verification 2021

यूपी भूलेख, यूपी खसरा, यूपी खतौनी, भूलेख यूपी ऑनलाइन सत्यापन 2021: भूलेख यूपी उत्तर प्रदेश सरकार की राजस्व परिषद द्वारा शुरू किए गए भूमि रिकॉर्ड के लिए एक डिजिटल पोर्टल है।

भूलेख यूपी की शुरुआत से पहले, भूमि के रिकॉर्ड से संबंधित सभी कार्य जैसे यूपी भूलेख खतौनी प्रणाली, जमाबंदी, आदि कागजों पर मैन्युअल रूप से रिकॉर्डिंग किए जाते थे। लेकिन अब यूपी सरकार ने राज्य में सभी भूमि रिकॉर्ड गतिविधियों को कम्प्यूटरीकृत कर दिया है।

Table of Contents

यूपी भुलेख क्या है?


यूपी भूलेख एक ऑनलाइन पोर्टल है जो यूपी खतौनी के पूरे जीवन और अन्य भूमि की जानकारी रखता है। यह कम्प्यूटरीकृत प्रणाली पिछली प्रणाली की तुलना में काफी व्यवस्थित और पारदर्शी है। प्रत्येक नागरिक आसानी से अपने घरों से अपने भूमि रिकॉर्ड की जानकारी की जांच कर सकता है।

जानकारी के एक छोटे से टुकड़े को जानने के लिए उन्हें अब राजस्व कार्यालय, यूपी पटवारी या किसी अन्य संबंधित कार्यालय की ओर जाने की आवश्यकता नहीं है। पहले राजस्व बोर्ड में भूमि का रिकॉर्ड रखने का काम हाथ से किया जाता था।

नागरिकों को अपनी जमीन से जुड़े हर काम के लिए विभाग का चक्कर लगाना पड़ता है। भूमि से संबंधित प्रत्येक कार्य जैसे भूमि की बिक्री, खतौनी की नकल, यूनिक कोड, जमाबंदी आदि के लिए उन्हें सरकारी कार्यालय का दौरा करना पड़ता है।

यह बहुत समय लेने वाला था और कभी-कभी संतोषजनक परिणाम नहीं देता था। लेकिन, अब परिदृश्य बदल गया है और उत्तर प्रदेश सरकार ने भूमि अभिलेख प्रणाली को कम्प्यूटरीकृत कर दिया है।

ये भी पढ़ें : UP Ration Card List 2021| यूपी राशन कार्ड के लिए अप्लाई कैसे करें

यूपी भूलेख, खसरा, खतौनी, ऑनलाइन वेरिफिकेशन 2021

इस लेख में भूलेख यूपी के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी देखें। यहां आपको यूपी भूलेख, इसके फायदे, इसका उपयोग कैसे करें और अन्य जानकारी के बारे में विस्तृत जानकारी मिलेगी।

Topicयूपी भूलेख
Article category-भूलेख यूपी के बारे में जानकारी
-यूपी भूमि अभिलेख, खसरा, खतौनी,
-भू नक्शा ऑनलाइनवेरिफिकेशन
Stateउत्तर प्रदेश
Bhulekh AuthorityRevenue Board/Council (Rajasva Parishad), UP
Official websitehttps://upbhulekh.gov.in

यूपी भूलेख पोर्टल की जानकारी


UP Bhulekh Portal यूपी राजस्व बोर्ड का एक ऑनलाइन पोर्टल है जिसने राज्य में मैनुअल भूमि रिकॉर्ड की समस्या को हल किया है। उत्तर प्रदेश भूलेख हिंदी के दो शब्दों भू + लेख से मिलकर बना है जहाँ भू का अर्थ भूमि और लेख का अर्थ विवरण या लेखा होता है।

यूपी भूलेख का मतलब है जमीन का हिसाब/रिकॉर्ड रखना। इसमें किसी भूमि के सभी विवरण, उसके मालिक और अन्य जानकारी विस्तार से शामिल होती है। इसे राज्य के सभी जिलों में लागू कर दिया गया है।

उत्तर प्रदेश राज्य में नागरिकों की भूमि की सभी गतिविधियाँ और रिकॉर्ड अब टेक्नोलॉजी की मदद से मिलती रहेंगी। भूलेख यूपी एक वेब पोर्टल है जो यूपी के राजस्व बोर्ड द्वारा लोगों की भूमि का रिकॉर्ड रखने के लिए शुरू किया गया है। भूलेख यूपी एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है जिसके माध्यम से आप अपना यूनिक कोड ऑफ प्लॉट, राजस्व ग्राम खतौनी का कोड, प्लॉट का स्टेटस, प्लॉट बिक्री की स्थिति, राइट्स रिकॉर्ड, डुप्लिकेट विखंडन आदि जान सकते हैं।

यूपी भूलेख ऑनलाइन साइट का उद्देश्य


जैसा कि आप जानते हैं, कंप्यूटर एडेड सिस्टम बहुत व्यवस्थित होते हैं। यह पोर्टल पिछले तरीकों की तुलना में व्यवस्थित और पारदर्शी भी है। जिसका यूपी के नागरिक को लाभ मिलेगा। वर्तमान में नागरिक कहीं से भी इस पोर्टल या मोबाइल एप्लिकेशन पर अपना भूमि रिकॉर्ड जान सकते हैं। भूलेख वेब पोर्टल का निर्माण उत्तर प्रदेश के भूमि रिकार्ड को कंप्यूटरीकृत करने के लिए इस प्रकार किया गया है कि भू-अभिलेखों के प्रतिदिन की गतिविधियों को सुव्यवस्थित किया जा सके| भूलेख पोर्टल खतौनी के पूरे जीवन चक्र को बनाए रखता है| भूलेख डाटा एपीआई भू-अभिलेख डाटा का इंटरफ़ेस है जो अन्य एप्लीकेशन्स के साथ पारदर्शिता प्रदान करता है| भूलेख डाटा एपीआई के प्रयोग से आप भू-अभिलेख डाटा , भू-अभिलेख के मालिक की जानकारी, भू-अभिलेख की जानकारी इत्यादि देख सकते है वेब आधारित भूमि दस्तावेज़ प्रणाली 2 मई 2016 से प्रारंभ हुई थी। जिसे प्रदेश की समस्त तहसीलों में लागू कर दिया गया है।

यूपी भूलेख के एलिमेंट्स

इस भाग में हमने UP भूलेख के एलिमेंट्स के बारे में पूरी जानकारी दी है।

Element NamesDescription of Elements
Khatauni Numberखतौनी नम्बर खाता संख्या के रूप में कार्य करता है। ये किसानों को आवंटित किया जाता है जो विभिन्न खसरा संख्या के साथ भूमि के कुछ हिस्से पर खेती करने के लिए जिम्मेदार हैं।
Khasra Numberखसरा नम्बर  किसी प्लॉट के एक यूनिक नंबर के साथ सर्वेक्षण संख्या भी है जो उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कृषि भूमि के मालिक को प्रदान की जाती है।
Jamabandi/Fard/RoRजमाबन्दी फर्द में मुख्य भूमि की रिकॉर्ड जानकारी शामिल है उदाहरण के लिए भूमि मालिक का नाम, खेती करने वालों का नाम, विशेष खसरा संख्या, भूमि का क्षेत्र, फसल का पूरा डेटा, गिरवी और अन्य पट्टों की जानकारी।
Khata /Khewat Numberखाता नम्बर या खैवट नम्बर  एक अकाउंट नंबर है जो उन लोगों को दी जाती है जिनके पास विभिन्न खसरा संख्याओं के साथ भूमि का एक हिस्सा होता है।

यूपी भूलेख पोर्टल द्वारा प्रदान की जाने वाली ऑनलाइन सेवाएं


उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल यूपी के जरूरतमंद नागरिकों को सहायता प्रदान करता है। इस वेबसाइट का उपयोग करके वे विभिन्न सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं जैसे-

  • E-District
  • Stamp & Registry
  • Revenue Suit
  • Complaint Registration
  • Knowing the Status of Complaint/ Grievance
ये भी पढ़ें: UP Voter Card Online Apply, Online Address Correction कैसे करें

UP Land Records Online कैसे जांचें?


भूलेख यूपी एक ऑनलाइन पोर्टल है और अधिकांश लोगों को यह नहीं पता है कि यह कैसे काम करता है और वे इसका उपयोग भूमि रिकॉर्ड की जांच के लिए कैसे कर सकते हैं। अगर आप भी उनमें से एक हैं तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। यहां हमने आपकी मदद करने के लिए यूपी भूमि रिकॉर्ड की ऑनलाइन जांच करने के लिए चरण दर चरण प्रक्रिया साझा की है। हमने भाषा को सरल और समझने में आसान रखा है। आप आसानी से प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं और अपने घर पर अपनी जमीन का विवरण प्राप्त कर सकते हैं।

भूलेख यूपी पर खतौनी (अधिकार रिकॉर्ड) की नकल-

आप नीचे साझा की गई प्रक्रिया का पालन करके भुलेख पर खतौनी (खतौनी की नकल) की नकल की जांच कर सकते हैं। आपके लिए इसे आसान बनाने के लिए हमने तस्वीरों की मदद से पूरी प्रक्रिया के बारे में बताया है।

Step1 – आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं: इसके लिए आपको भूलेख यूपी के आधिकारिक पोर्टल यानी http://upbhulekh.gov.in पर जाना होगा।

चरण 2 – पोर्टल के होमपेज पर आपको विभिन्न लिंक मिलेंगे। आपको “खतौनी (अधिकारअभिलेख ) की नकल देखें ” लिंक पर क्लिक करना होगा।

चरण 3 – कैप्चा कोड दर्ज करें: एक पॉप अप दिखाई देगा और आपको दिखाया गया कैप्चा कोड दर्ज करना होगा। सबमिट बटन पर क्लिक करने से पहले, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आपने कोड सही दर्ज किया है क्योंकि यह केससेंसेटिव होता है।

चरण 4 -जनपद का चयन करें: अब, आपको सूची में से जनपद का चयन करना होगा जैसा कि चित्र में दिखाया गया है।

चरण 5 – तहसील का चयन करें: एक जिले का चयन करने पर, उस जिले के अंतर्गत आने वाली सभी तहसीलों की एक सूची दिखाई देगी। आपको सूची से संबंधित तहसील का चयन करना होगा।

चरण 6 – गाँव का चयन करें: एक बार जब आप तहसील का चयन कर लेते हैं तो गाँव की एक सूची दिखाई देगी और आपको अपने गाँव का चयन करना होगा। आप नीचे दिए गए विकल्प से अपने गांव के पहले अक्षर को चुनकर इसे आसान बना सकते हैं।

चरण 7 – क्रेडेंशियल दर्ज करें: अब आपको दिए गए स्थान में मान्य जानकारी दर्ज करनी होगी। सर्च करने के लिए आपको तीन विकल्प दिए गए हैं। आप गाटा नंबर / खसरा दर्ज करके या खाता संख्या या खाताधारक के नाम से खोज सकते हैं।
मान्य क्रेडेंशियल दर्ज करने के बाद, आपको “उद्धरण देखें” बटन पर क्लिक करना होगा। इसके बाद कैप्चा कोड डालकर सबमिट सबमिट पर क्लिक करना होगा।

चरण 8 – खाता विवरण जांचें: अब, आप अपनी स्क्रीन पर अपने खाते का विवरण देख सकते हैं। इसमें खाताधारक का नाम, फसल वर्ष, जिला, क्षेत्र, भूमि अभिलेख संख्या, आदेश, क्षेत्र आदि जैसी जानकारी शामिल होती है।

चरण 9 – जानकारी को सेव करें : अंत में, यदि आप चाहें तो आप पृष्ठ को सेव सकते हैं या संदर्भ के लिए स्क्रीनशॉट ले सकते हैं। हालांकि, आपकी जमीन के बारे में विवरण पहले से ही डेटाबेस में है और आप इसे कहीं भी, कभी भी जरूरत पड़ने पर देख सकते हैं।

यदि आप भूलेख यूपी पर अन्य भूमि अभिलेखों की जांच करना चाहते हैं जैसे राजस्व गांव खतौनी का कोड, प्लॉट / गेट का यूनिक कोड, प्लॉट की स्थिति आदि। खतौनी की नकल के अलावा अन्य रिकॉर्ड आप ऊपर दी गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं। अपनी जमीन के विभिन्न रिकॉर्ड की जांच करने के लिए आपके पास अपना खसरा या गाटा नंबर होना चाहिए। एक वैध खसरा नंबर के बिना, आप अपने रिकॉर्ड की जांच नहीं कर सकते।

प्लॉट ऑनलाइन की स्थिति कैसे पता करें?

किसी भी उपयुक्त वेब ब्राउज़र में यूपी भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
अब, होमपेज पर उम्मीदवार को “भू खंड/ गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति जानें” टैब पर क्लिक करना होगा।

इसके बाद आपको अपनेजनपद , तहसील और गांव के नाम का चयन करना होगा।

उसके बाद, जानकारी देखने के लिए “खसरा या गाटा संख्या” जैसे डेटा दर्ज करें।

कुछ ही सेकंड में आपकी स्क्रीन पर जमीन की स्थिति प्रदर्शित हो जाएगी।

यूपी भूलेख प्लॉट की बिक्री की स्थिति की जांच कैसे करें


यूपी भूलेख पोर्टल का आधिकारिक लिंक खोलें।
आधिकारिक वेबसाइट का होमपेज पर “भूखंड/गाटे की बिक्री की स्थिति जानें” विकल्प चुनें।

इस पेज पर, आवेदकों को चयन बॉक्स से “जनपद , गांव का नाम, तहसील का नाम” का चयन करना होगा।

फिर अपना “गाटा नंबर/खेसरा नंबर ” डालें।

कुछ ही पलों में आपकी स्क्रीन पर प्लॉट की बिक्री की स्थिति खुल जाएगी।

यूपी भूलेख मोबाइल एप्लीकेशन कैसे डाउनलोड करें?


यूपी भूलेख वेबसाइट के साथ, अधिकारियों ने इसके लिए एक मोबाइल एप्लिकेशन भी विकसित किया है। उम्मीदवार नीचे दिए गए चरणों का पालन करके प्ले स्टोर से आवेदन पत्र डाउनलोड कर सकते हैं।

  • अपने वेब ब्राउजर में प्ले स्टोर खोलें।
  • अब, इसमें “यूपी भुलेख” एप्लिकेशन खोजें।
  • अपने मोबाइल फोन पर एप्लिकेशन डाउनलोड करें।
  • यूपी भूलेख मोबाइल एप्लिकेशन से सभी विवरण देखें।

यूपी भुलेख के फायदे


उत्तर प्रदेश में भूमि अभिलेखों के कम्प्यूटरीकरण ने राज्य में भूमि अभिलेखों की दैनिक गतिविधियों को सुव्यवस्थित किया है। भूलेख यूपी के कई फायदे हैं। नीचे हमने उन सभी लाभों और लाभों को साझा किया है जो इस प्रणाली ने नागरिकों को प्रदान किए हैं-

  • नागरिक किसी भी समय और किसी भी स्थान पर एक ही वेबसाइट पर अपने भूमि रिकॉर्ड की तारीख, यूपी भुलेख मानचित्र और सभी संबंधित जानकारी देख सकते हैं। उन्हें हर बार संबंधित विभाग के चक्कर नहीं लगाने पड़ते।
  • लोग सिर्फ खसरा नंबर / गेट नंबर दर्ज करके अपनी जमीन का विवरण देख सकते हैं। इस पोर्टल पर।
  • यह एक पारदर्शी प्रणाली है जो भूमि के अवैध कब्जे, हाथापाई, कमजोर वर्गों की भूमि हथियाने, अपराध, मुकदमों आदि को कम करने में मदद करती है।
  • अब नागरिकों को अपनी जमीन की स्थिति या जानकारी जानने के लिए राजस्व विभाग के चक्कर नहीं लगाने होंगे। वे इसे केवल भूलेख यूपी पोर्टल पर जाकर देख सकते हैं।
  • पहले, यह व्यस्त और समय लेने वाली गतिविधि थी यदि आपको भूमि रिकॉर्ड की जांच करनी होती थी। अब भूलेख यूपी के साथ, नागरिक अपना समय बचा सकते हैं क्योंकि उन्हें बार-बार पटवारी कार्यालय जाने की आवश्यकता नहीं है। यदि आप एक श्रमिक हैं तो आप “श्रम अधिनियम प्रबंधन प्रणाली” नामक यूपी के श्रमिकों के लिए शुरू की गई एक अन्य वेबसाइट का लाभ उठा सकते हैं।
  • नागरिक भूलेख के माध्यम से जानकारी जोड़ सकते हैं और अपने भूमि खाते को अपडेट कर सकते हैं और यह प्रक्रिया फाइलों में विवरण रखने के बजाय सुरक्षित है।

यूपी भु नक्शा | UP Bhu Naksha


नागरिक उत्तर प्रदेश का ऑनलाइन नक्शा भी देख सकते हैं। यूपी भु नक्शा लिंक यहां दिया गया है। भूलेख यूपी ऑनलाइन मानचित्र / भु नक्शा पर जाने के लिए लिंक पर क्लिक करें।

उत्तर प्रदेश जियो मैप ऑनलाइन: आप घर बैठे अपने खुद के जमीन के खेत का नक्शा ऑनलाइन देख सकते हैं। आप अपने जमीन के नक्शे का प्रिंटआउट भी ले सकते हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मानचित्र सामग्री की जानकारी ऑनलाइन कर देश का ऑनलाइन नक्शा पेश किया है।

यूपी भुलेख का पूरा विवरण हिंदी में पढ़ने के लिए – यहां क्लिक करें।

यूपी भूलेख 2021 के ऑनलाइन वेरिफिकेशन का सीधा लिंक

Check Bhulekh UP Khasra Khatauni Online
भूखण्ड /गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति यहाँ से जाने
Click Here
Check Bhulekh UP Bhulekh Record Online
खतौनी (अधिकार अभिलेख) की नक़ल देखें
Click Here
Find UP Unique / Gata Code
भूखण्ड/ गाटे का यूनिक कोड यहाँ से जाने
Click Here
Search UP Khasra Code Wise
राजस्व ग्राम खतौनी का कोड यहाँ से जाने
Click Here
Bhulekh UP Khautani Nakal Verification
खतौनी अंश -निर्धारण की नक़ल यहाँ देखें
Click Here
UP Bhu Naksha
यूपी भू नक्शा/भू-लेख ऑनलाइन मैप देखें
Click Here

UP Bhulekh के अंतर्गत आने वाले उत्तर प्रदेश के सभी जनपद / जिले

  • अमरोहा
  • अमेठी
  • अम्बेदकरनगर
  • अयोध्या
  • अलीगढ़
  • आगरा
  • आजमगढ
  • इटावा
  • उन्नाव
  • एटा
  • औरैया
  • कन्नौज
  • कानपुर देहात
  • कानपुर नगर
  • कासगंज
  • कुशीनगर
  • कौशाम्बी
  • खीरी
  • गाजियाबाद
  • गाजीपुर
  • गोरखपुर
  • गोंडा
  • गौतम बुद्ध नगर
  • चन्दौली
  • चित्रकूट
  • जालौन
  • जौनपुर
  • झांसी
  • देवरिया
  • पीलीभीत
  • प्रतापगढ
  • प्रयागराज
  • फतेहपुर
  • फर्रूखाबाद
  • फिरोजाबाद
  • बदांयू
  • बरेली
  • बलरामपुर
  • बलिया
  • बस्ती
  • बहराइच
  • बागपत
  • बाराबंकी
  • बाँदा
  • बिजनौर
  • बुलन्द शहर
  • भदोही
  • मऊ
  • मथुरा
  • महाराजगंज
  • महोबा
  • मिर्जापुर
  • मुजफफर नगर
  • मुरादाबाद
  • मेरठ
  • मैनपुरी
  • रामपुर
  • रायबरेली
  • लखनऊ
  • ललितपुर
  • वाराणसी
  • शामली
  • शाहजहांपुर
  • श्रावस्ती
  • सन्तकबीर नगर
  • सम्भल
  • सहारनपुर
  • सिद्धार्थनगर
  • सीतापुर
  • सुल्तानपुर
  • सोनभद्र
  • हमीरपुर
  • हरदोई
  • हाथरस
  • हापुड़

यूपी भूलेख संबंधी अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

“भूलेख” शब्द का क्या अर्थ है?

“भुलेख” शब्द में दो अलग-अलग हिंदी / संस्कृत शब्द “भू” और “लेख” शामिल हैं। अंग्रेजी में इसे भूमि अभिलेख कहा जाएगा, जिसका उपयोग भूमि के सभी विवरणों को अभिलेख रूप में रखने के लिए किया जाता है।

उत्तर प्रदेश भूलेख से संबंधित प्रश्न पूछने के लिए मैं कौन सा हेल्पलाइन नंबर डायल कर सकता हूं?

यदि आपको कोई समस्या है या अधिकारियों से कुछ पूछना है तो इस नंबर पर संपर्क करें – 0522-2217145।

ऑनलाइन वेबिस्ट के माध्यम से भूमि की स्थिति की जाँच करने की प्रक्रिया क्या है?

उत्तर प्रदेश भूलेख के आधिकारिक पृष्ठ पर जाना है -> “प्लॉट की स्थिति जानें” विकल्प चुनें -> अपना “गांव, जिला, तहसील” चुनें -> गाटा नंबर और शर्त दर्ज करें और अन्य जानकारी आपके स्क्रीन पर प्रस्तुत की जाएगी ।

यूपी भुलेख के संदर्भ में खाता संख्या क्या है?

खाता संख्या वह यूनिक नंबर है जो राजस्व विभाग द्वारा भूमि के मालिक को प्रदान की जाती है। यह संख्या सत्यापित करती है कि भूमि का टुकड़ा किसका है।

अपने गांव का कोड ऑनलाइन कैसे जान सकते हैं?

ग्राम कोड ऑनलाइन जानने के लिए, आपको उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल के आधिकारिक पोर्टल पर जाना होगा। फिर, पहला विकल्प चुनें जो “राजस्व ग्राम खतौनी कोड जानें” है। इसके बाद अपने जिले, तहसील, गांव का चयन करें। आपके गांव के नाम के दाईं ओर गांव का कोड दिखाई देगा।

जमाबंदी का क्या अर्थ है?

जमाबंदी में भूमि अभिलेख होते हैं जिसमें नागरिक अपना विवरण जैसे भूमि के मालिक का नाम, किसान का विवरण, फसल का विवरण, खसरा संख्या आदि सम्मिलित करते हैं।

मैं यूपी भूलेख के आधिकारिक पोर्टल से तहसील की सूची कैसे देख सकता हूं?

यूपी राज्य के अंतर्गत आने वाली तहसीलों के नामों की जांच करने के लिए, आवेदन को यूपी भुलेख की आधिकारिक वेबसाइट खोलनी होगी, फिर होमपेज को नीचे स्क्रॉल करना होगा और स्क्रीन पर दिए गए “तहसील” विकल्प पर क्लिक करना होगा। कुछ ही क्षणों में आपके डिस्प्ले पर सूची दिखाई देगी।

यदि मैंने गलत खाता विवरण डाला है तो क्या मैं अपनी जानकारी को सही कर सकता हूँ?


यूपी भूलेख पोर्टल खाते की जानकारी अपडेट करने के लिए किसी भी प्रकार की सुविधा प्रदान नहीं करता है। जानकारी सही करने के लिए उम्मीदवारों को तहसील का दौरा करना होगा।

राजस्व विभाग द्वारा किसको खतौनी नंबर आवंटित किया जाता है?

खतौनी नंबर राजस्व विभाग द्वारा खेतिहर समूह को दिया जाता है। ये लोग खसरा संख्या के अनुसार जमीन के किसी न किसी टुकड़े पर खेती करते हैं।

मैं जमीन के मालिक का नाम कैसे चेक कर सकता हूं?

ज़मींदार के नाम की जाँच करने के लिए, आपको आधिकारिक पोर्टल खोलना होगा और फिर अपनी तहसील, गाँव, जिले में प्रवेश करना होगा और भूमि का विवरण जानना होगा।

मैं यूपी राज्य का नागरिक नहीं हूं तो भी मैं यूपी भूलेख से अपनी जमीन का विवरण देख सकता हूं?

नहीं, इस पोर्टल से केवल यूपी के लोग ही इसका लाभ उठा सकते हैं। भूमि विवरण की जांच के लिए आप अपने राज्य की वेबसाइट देख सकते हैं।

क्या मैं इस पोर्टल के माध्यम से अपने प्लॉट की बिक्री की स्थिति की जांच कर सकता हूं?

हां, आप इस पोर्टल की मदद से आसानी से विवरण की जांच कर सकते हैं। यदि आप प्रक्रिया नहीं जानते हैं तो इस लेख में ऊपर दी गई प्रक्रिया का पालन करें।

यूपी भु नक्शा ऑनलाइन कैसे देखें

ए) इस वेबसाइट पर क्लिक करें: http://164.100.163.165/bhunaksha/09/index.html
बी) अब जिला, तहसील और गांव का चयन करें।
ग) अब आप चयनित क्षेत्र का नक्शा देखेंगे।
D) अब आप संबंधित खाताधारक का नाम देखने के लिए अपने फार्म नंबर पर क्लिक कर सकते हैं।
E) ऐसा करने के बाद आपको अकाउंट नंबर दिखाई देगा, अब उस अकाउंट होल्डर का नाम चुनें जिसे आप देखना चाहते हैं।
एफ) आप भूमि के नक्शे का प्रिंट आउट भी ले सकते हैं।

यूपी भु नक्शा ऑनलाइन पोर्टल का प्रमुख लाभ क्या है?


उम्मीदवार किसी भी समय और कहीं से भी अपने क्षेत्र के अनुसार भूमि के नक्शे के विवरण की जांच कर सकते हैं।

मैं नीतीश वर्मा टेक्निकल मित्र ब्लॉग का ऑथर हूँ। यहाँ आपको बैंकिंग, फाइनेंस, इन्वेस्टमेंट, सरकारी योजनाओं सहित नई टेक्नोलॉजी की जानकारी पोस्ट करता हूँ।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.