Mobile Tower Location की जानकारी कैसे प्राप्त करें ?

मोबाइल फ़ोन आज के जीवन की लाइफ लाइन है। आपके स्मार्टफोन को सिग्नल मिलता है मोबाइल टावर से। इस पोस्ट में आप जानेंगे भारत में Mobile Tower Location की जानकारी कैसे प्राप्त करें? आज के समय में सभी टेलीकॉम कंपनियां अच्छे सिग्नल्स देने का दावा करती हैं। लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है।

इसलिए आपको ये पता होना चाहिए की आपके घर या ऑफिस के पास मोबाइल टावर की लोकेशन क्या है ? उसकी सिग्नल स्ट्रेंथ क्या है? ताकि इस समस्या से आप अपने टेलीकॉम ऑपरेटर को अवगत करवा सकें।

तो आइये जानते हैं, आपके एरिया के मोबाइल टावर की लोकेशन के बारे में। साथ ही टावर के EMF स्टेटस के बारे में भी जानेंगे। जिसके रेडिएशन से कैंसर का खतरा हो सकता है।

Nearby Mobile Tower Location की जानकारी कैसे प्राप्त करें ?

नजदीकी मोबाइल टावर लोकेशन की जानकारी प्राप्त करने के कई माध्यम हैं। यहाँ हम आपको ट्रस्टेड सोर्स की जानकारी देंगे। सबसे पहले ये समझना जरुरी है मोबाइल ऑपरेटर और मोबाइल टावर लगाने वाली कम्पनी अलग होती है।

यहाँ मैं भारत सरकार के पोर्टल तरंग संचार की बात करूँगा। जहाँ से आपको मोबाइल टावर से जुड़ी कई जानकारी मिलेंगी।

Tarang Sanchar Online Portal Kya Hai?

तरंग संचार भारत सरकार का ऑनलाइन पोर्टल है। जिसे Department of Telecom (DoT) के द्वारा लांच किया गया है।

टेलीकॉम मिनिस्टर मनोज सिन्हा ने इसको लांच किया था।

इस पोर्टल की मदद से Electromagnetic Emission को लेकर भ्रम मिटने की कोशिश की गई है।

मोबाइल टावर से जो तरंगें निकलती हैं उन्हें Electromagnetic Emission कहा जाता है।

Tarang Sanchar Online Portal की मदद से आप किसी भी एरिया में मौजूद मोबाइल टावर की लोकेशन और बहुत सी जानकारी पता लगा सकते हैं।

संचार पोर्टल के लॉन्च होने से पहले एक बेहद चौकाने वाला मामला सामना आया। ग्वालियर ( मध्य प्रदेश ) के एक व्यक्ति जिनकी उम्र 42 साल थी।

उसने एक शिकायत दर्ज करवाई थी की घर के पास मौजूद मोबाइल टावर के रेडिएशन कैंसर हो गया है।

देश में ऐसा पहली बार ऐसा हुआ की किसी एक व्यक्ति की शिकायत पर वहां से पूरा मोबाइल टावर हटा दिया गया हो।

इस तरह के घटना को रोकने के लिए Tarang Sanchar Online Portal बनाया गया।

जानकारी के अनुसार इस पोर्टल को लम्बे समय से डेवेलोप किया जा रहा था। इसकी मदद से आप अपने आस पास मौजूद टावर को देख सकते हैं।

यंहा 6,38,136 Mobile Towers और 22,56,226 Base Transceiver (BTS) का डाटा मौजूद है। ये डाटा हमेशा अपडेट होता है। आप टावर्स के टाइप 2G/3G/4G पता कर सकते हैं। साथ ही ये EMF parameters को फॉलो करते हैं या नहीं पता कर सकते हैं।

Tarang Sanchar Portal से Mobile Tower Location कैसे पता करें?

  • तरंग संचार पोर्टल पर विजिट करना होगा। इस पोर्टल में बहुत जानकारी दी गई है।
  • होमपेज पर ही आपको “My Location” ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। यहाँ पिन कोड या एरिया के नाम से भी सर्च कर सकते हैं।
  • जिसके बाद एक वेरिफिकेशन फॉर्म खुलेगा। यहाँ नाम ईमेल और मोबाइल नंबर की जानकारी देकर सबमिट करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एरिया का मैप ओपन हो जाता है।

मैप में आपको सभी मोबाइल टावर्स की पिन लोकेशन आ जाती है।

यहाँ मोबाइल टावर्स को तीन भाग में बाँटा गया है।

  • Ground based – ग्राउंड बेस्ड टावर्स को जमीन पर लगाया जाता है। इनकी एक फिक्स हाइट होती है।
  • Roof Top -ऐसे टावर्स घरों या बिल्डिंग के छत पर लगाए जाते हैं।
  • Wall Mounted – ये टावर indoor या outdoor हो सकते हैं। इन्हें दीवारों पर फिट किया जाता है। मेट्रो स्टेशन, बड़े अपार्टमेंट्स या ऐसे संकरी गली या बिजी मार्किट वहां इसको इंस्टाल किया जाता है।

यहाँ आप देख सकते हैं, मैंने दिल्ली के रोहिणी का लोकेशन सेट किया है। आप यहाँ किसी भी टावर पर क्लिक करके उसकी जानकारी ले सकते हैं।

तरंग संचार से मोबाइल टावर की क्या जानकारी मिल सकती है ?

ये बात थी ऑनलाइन किसी भी एरिया के मोबाइल टावर की लोकेशन के बारे में। अब ये जानते हैं की तरंग संचार पोर्टल पर किसी मोबाइल टावर के बारे में क्या जानकारी पता लग सकती है।

  • यहाँ किसी भी टावर पर क्लिक करके उसका एड्रेस देख सकते हैं।
  • टावर पर किस ऑपरेटर का है उसकी जानकारी भी मिल जाती है।
  • यहाँ टावर की फोटो आपको दिख जाती है।
  • ये टावर किस फ्रेक्वेंसी के लिए है जैसे 2G/3G/4G

अगर इससे भी अधिक जानकारी आपको चाहिए तो “additional information पर क्लिक कीजिए।

आपको मेल पर सभी जानकारी उब्लब्ध हो जायेगी।

अब आप की एरिया के Mobile Tower Location की जानकारी कैसे प्राप्त कर सकते हैं। पोस्ट को शेयर कीजिये जिससे दूसरों को भी जानकारी मिल सके।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.